टॉप न्यूज़भारत

जल जीवन मिशन: कोरोना वायरस के बावजूद इस साल देश में 225 दिन में 1 करोड़ नल कनेक्शन लगाए गए

केंद्रीय जलशक्ति मंत्रालय से राहत भरी खबर आई है। कोरोना महामारी के बावजूद इस साल (225 दिन) में अब तक मंत्रालय देश के 1 करोड़ घरों को नल कनेक्शन दे चुका है। केंद्रीय जलशक्ति मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत ने यह जानकारी दी। उन्होंने कहा कि इस सफलता का श्रेय सभी राज्यों तथा केंद्र शासित प्रदेशों द्वारा किए जा रहे अथक प्रयासों को जाता है।

 

शेखावत ने कहा कि आप सभी को यह जानकर भी प्रसन्नता होगी कि अनलॉक-1 की शुरुआत से हम प्रतिदिन 1 लाख से अधिक घरों को नल कनेक्शन दे रहे हैं। उन्होंने कहा कि आप सभी की शुभेच्छाओं से मंत्रालय, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का हर घर नल से जल पहुंचाने का संकल्प चरितार्थ होने की दिशा में निरंतर प्रशस्त है।

क्या है जल जीवन मिशन

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पिछले साल 15 अगस्त को लाल किले से जल जीवन मिशन की घोषणा की थी। 3.60 लाख करोड़ की इस योजना के तहत साल 2024 तक प्रत्येक ग्रामीण आवास में नल से जल पहुंचाया जाना है। देश में 19.04 करोड़ ग्रामीण आवास हैं, जिनमें से 3.23 करोड़ में पानी के कनेक्शन चल रहे थे।

राज्यों का अहम रोल

जल जीवन मिशन की आधी राशि केंद्र सरकार वहन कर रही है तो आधा खर्च स्वयं राज्यों को उठाना है। बिहार, गोवा, पुडुचेरी, तेलंगाना ने 2021, गुजरात, हरियाणा, हिमाचल प्रदेश, जम्मू और कश्मीर, लद्दाख, मेघालय, पंजाब, सिक्कम, उत्तर प्रदेश ने 2022, अरुणाचल प्रदेश, कर्नाटक, मध्य प्रदेश, मणिपुर, मिजोरम, नागालैंड, त्रिपुरा, छत्तीसगढ़ ने 2023 और असम, आंध्र प्रदेश, झारखंड, केरल, महाराष्ट्र, ओडिशा, राजस्थान, तमिलनाडु, उत्तराखंड, पश्चिम बंगाल ने 2024 तक हर घर नल से जल पहुंचाने का संकल्प लिया है।

स्वच्छ जल पहली प्राथमिकता

जल जीवन मिशन के अंतर्गत खराब गुणवत्ता वाले पानी से प्रभावित बस्तियों में पीने योग्य जल की आपूर्ति सबसे पहली प्राथमिकता है, ताकि फ्लूरोसिस और आर्सेनिकोसिस के दुष्प्रभावों में कमी लाई जा सके। राज्यों को दिसंबर, 2020 तक आर्सेनिक और फ्लूरॉइड प्रभावित बस्तियों के सभी घरों में पाइप से पानी की आपूर्ति सुनिश्चित करनी है। जापानी इंसेफ्लाइटिस/एक्यूट इंसेफ्लाइटिस से प्रभावित जिलों पर विशेष जोर दिया जा रहा है, जो प्रभावित जिलों में शिशु मृत्यु की वजहों में से एक है। अभी तक असम, बिहार, तमिलनाडु, उत्तर प्रदेश और पश्चिम बंगाल के 61 ऐसे प्रभावित जिलों में 3.01 करोड़ घर हैं, जिनमें 2.74 करोड़ घरों में इस योजना के तहत कनेक्शन उपलब्ध कराए जा रहे हैं।

जिओ-टैगिंग और आधार से लिंक

खास बात यह है कि पारदर्शिता सुनिश्चित करने के लिए हर कनेक्शन की जिओ-टैगिंग की जा रही है। कनेक्शन को परिवार के मुखिया के आधार से जोड़ा जा रहा है। जिला स्तर पर मिशन की प्रगति का संकेत देने वाला डैशबोर्ड तैयार किया गया है। यह मंत्रालय की वेबसाइट पर उपलब्ध है। अनुसूचित जाति/अनुसूचित जनजाति बहुल गांवों, आकांक्षी जिलों, सूखा प्रभावित और रेगिस्तानी क्षेत्रों तथा पानी की खराब गुणवत्ता वाली बस्तियों को प्राथमिकता दी जा रही है।

धन की कमी नहीं

जल शक्ति मंत्रालय के अनुसार साल 2020-21 में जल जीवन मिशन के लिए 23,500 करोड़ रुपए का आवंटन किया गया है। वर्तमान में राज्यों और संघ शासित प्रदेशों के लिए 8,000 करोड़ का केंद्रीय कोष उपलब्ध है। ग्रामीण स्थानीय निकायों के लिए 15वें वित्त आयोग के अनुदान का 50 प्रतिशत जलापूर्ति और स्वच्छता के लिए निर्धारित किया गया है, जो 30,375 करोड़ के बराबर है। इस धनराशि का 50 प्रतिशत हिस्सा 15 जुलाई, 2020 को जारी कर दिया गया था।

Tags

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close