अनतर्राष्ट्र्य खबरें

गलवान घाटी में चीन के पीछे हटने में काम आई पीएम मोदी की ये रणनीति

BRO का चीन को दो टूक जवाब-हमारा काम सीमा पर सड़कें तैयार करना, किसी की आपत्तियों की चिंता नहीं

  • एनएसए अजित डोभाल ने रविवार को चीन के विदेश मंत्री वांग यी से वीडियो कॉल पर बात की थी
  • नरेंद्र मोदी शुक्रवार को लद्दाख दौरे पर गए थे, उन्होंने यहां 9 घंटे बिताए; गलवान में घायल जवानों से मिले थे
  • फॉरवर्ड पोस्ट पर फाइटर जेट्स की तैनाती एक इशारा

चीनी सेना अगर पीछे हटी है तो इसके पीछे भारत के कई रणनीतिक-राजनीतिक और राजनयिक कदम जिम्मेदार हैं जो पिछले कई दिनों से निरंतर आगे बढ़ाए जा रहे थे. सिलसिलेवार देखें तो इसमें कई अहम फैक्टर शामिल हैं, मसलन भारत ने कैसे बॉर्डर पर फौज बढ़ाई, फाइटर प्लेन तैयार किए, चीन के खिलाफ दुनिया भर में माहौल बना, अमेरिका सहित कई देशों के बयान आए, खुद प्रधानमंत्री लद्दाख गए. पहले आर्मी चीफ गए दूसरी तरफ वार्ता जारी रही. भरपूर उकसावे के बावजूद प्रधानमंत्री ने चीन का सीधा नाम नहीं लिया. इससे बातचीत की खिड़की खुली रही. कई ऐप बैन कर और चीनी कंपनियों के टेंडर निरस्त कर बताया कि भारत इस मामले में झुकेगा नहीं, नतीजा यह हुआ कि चीन को मामला आगे बढ़ाने में कोई फायदा नहीं दिखा.

 

विदेश मंत्रालय के मुताबिक इन 5 पॉइंट्स पर सहमति

  1. भारत और चीन के बीच पॉइंट पीपी-14, पीपी-15, हॉट स्प्रिंग्स और फिंगर एरिया में भी विवाद है। इन इलाकों से भी सैनिक पीछे हटने शुरू हो गए हैं।
  2. बॉर्डर पर शांति रखने और रिश्तों को आगे बढ़ाने के लिए दोनों देशों को आपस में तालमेल रखना चाहिए। अगर विचार मेल नहीं खाएं तो विवाद खड़ा नहीं करना चाहिए।
  3. एलएसी पर सेना हटाने और डी-एक्स्क्लेशन की प्रोसेस जल्द से जल्द पूरी की जाए। यह काम फेज वाइज किया जाए।
  4. दोनों देश एलएसी का सम्मान करें और एकतरफा कदम नहीं उठाएं। भविष्य में सीमा पर माहौल बिगाड़ने वाली घटनाएं रोकने के लिए मिलकर काम करें।
  5. एनएसए डोभाल और चीन के विदेश मंत्री आगे भी बातचीत जारी रखेंगे, ताकि दोनों देशों के समझौतों के मुताबिक सीमा पर शांति रहे और प्रोटोकॉल बना रहे।

BRO का चीन को दो टूक जवाब-हमारा काम सीमा पर सड़कें तैयार करना, किसी की आपत्तियों की चिंता नहीं

सीमा विवाद (Border Dispute) के बीच भारत के सीमा सड़क संगठन (Border Road Organisation-BRO) ने साफ किया है कि उन्हें चीन की आपत्तियों से कोई लेना देना नहीं है. चीन द्वारा सड़क निर्माण को लेकर अक्सर उठाई जाने वाली आपत्तियों पर  बातचीत में BRO के एक्जिक्यूटिव इंजीनियर बी. किशन ने कहा है-‘सीमा सड़क संगठन का आपत्तियों से कोई लेना नहीं है. हम वही काम करते हैं जो हमें सौंपा जाता है.’

 

 

पीछे हटा चीन, खबर का मतलब समझिए

खबर ये है कि गलवान से चीन के सैनिकों ने पीछे हटना शुरू कर दिया है. जिसका मतलब है गलवान में भारत की बड़ी जीत हुई है

खबर ये है कि LAC पर चीन की आर्मी पीपी 14 से टेंट हटाते दिखाई दिए हैं. जिसका मतलब है विस्तारवाद पर भारत के विकासवाद की जीत हुई है.

 

 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close