BREAKING NEWS

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मध्य प्रदेश के स्ट्रीट वेंडर्स के साथ ‘स्वनिधि संवाद’ किया

  • महामारी से प्रभावित स्ट्रीट वेंडरों को उनकी आजीविका फिर से शुरू करने में मदद के लिए शुरू की गई योजना: पीएम
  • योजना के तहत ब्याज में 7 प्रतिशत तक की छूट और एक वर्ष के भीतर ऋण का भुगतान करने पर आगे भी कई लाभ : पीएम
  • स्ट्रीट वेंडर्स को व्यवसाय और डिजिटल लेन-देन के लिए ओटीटी मंच तक पहुंच प्रदान की जाए: पीएम

 

प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने मध्य प्रदेश के स्ट्रीट वेंडर्स के साथ ‘स्वनिधि संवाद‘ किया। भारत सरकार ने कोविड-19 से प्रभावित गरीब स्ट्रीट वेंडर्स को उनकी आजीविका फिर से शुरू करने में मदद के लिए 1 जून, 2020 को पीएम स्वनिधि योजना शुरू की थी। मध्य प्रदेश में 4.5 लाख स्ट्रीट वेंडर पंजीकृत थे,जिनमें से लगभग 1.4 लाख स्ट्रीट वेंडर्स के लिए 140 करोड़ रुपये की राशि को स्वीकृति प्रदान की गई है।

 

प्रधानमंत्री ने कहा कि मध्य प्रदेश सरकार ने कोरोना काल में स्ट्रीट वेंडर्स की समस्याओं का निदान करने के लिए तेज़ी से काम किया है। इसके साथ ही पीएम स्‍वनिधि योजना के जरिए लोगों को कैसे ज्यादा से ज्यादा लाभ मिल सके और इस वर्ग के लोगों की वित्तीय स्थिति में सुधार हो सके, इसके लिए मध्य प्रदेश सरकार ने बेहतरीन काम किया है। इस योजना के तहत प्रक्रिया को बेहद सरल बनाया गया है, ताकि योजना का लाभ उठाने के लिए  स्ट्रीट वेंडर्स लोगों को ज्यादा दिक्कत ना उठानी पड़े।

 

प्रधानमंत्री ने कहा कि कोरोना काल में स्ट्रीट वेंडर्स को रोज़गार के लिहाज़ से काफी नुकसान हुआ जिससे उनकी आमदनी भी प्रभावित हुई। ऐसे में पीएम स्‍वनिधि योजना से इन लोगों को मदद मिली है। सरकार की कोशिश रही है कि समाज के वंचित वर्गों के विकास के लिए तत्परता से काम किया जाए। गरीबों के लिए जितना काम पिछले 6 साल में हुआ है, उतना पहले कभी नहीं हुआ। सरकार की योजनाओं से हर क्षेत्र के गरीब-पीड़ित-शोषित-वंचित लोगों को लाभ मिला है।

 

प्रधानमंत्री ने कहा कि सरकार ने शहरों में स्ट्रीट वेंडर्स के उचित किराए में बेहतर आवास उपलब्ध कराने की भी एक बड़ी योजना शुरु की है। इसके अलावा एक देश, एक राशन कार्ड की सुविधा के तहत देश में कहीं भी जाने पर ये सभी लोग अपने हिस्से का सस्ता राशन ले पाएंगे।

Tags

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close