खेल

प्रधानमंत्री मोदी ने महेंद्र सिंह धोनी को लिखी चिट्ठी,जवाब में ‘कैप्टन कूल’ ने इस अंदाज में कहा- शुक्रिया

महेंद्र सिंह धोनी ने ट्वीट कर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का आभार जताया है। मोदी ने चिट्ठी लिखकर धोनी की तारीफ की थी और उन्हें जीवन की दूसरी पारी के लिए शुभकामनाएं दी थीं।

नई दिल्ली. भारत के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी (Mahendra Singh Dhoni) ने 15 अगस्त को अंतरराष्ट्रीय करियर से संन्यास का ऐलान कर दिया. उनके रिटायरमेंट पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) ने उन्हें शानदार उपलब्धियों के लिए मुबारकबाद दी साथ ही देश को कई ऐतिहासिक जीत दिलाने के लिए धन्यवाद भी कहा. नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) ने दो पन्नों का लंबा पत्र लिखा जिसमें उन्होंने धोनी के शांत स्वभाव की तारीफ की. उन्होंने कहा कि  धोनी हमेशा देश के युवाओं के लिए प्रेरणा रहेंगे. नरेंद्र मोदी ने अपने इस पत्र में धोनी की सभी उपलब्धियों के बारे में लिखा.

 

प्यारे महेंद्र,

15 अगस्त के दिन आपने हमेशा हैरान कर देने वाले स्टाइल में एक छोटा सा वीडियो डालकर रिटायरमेंट का ऐलान कर दिया. हालांकि यह पूरे देश के लिए चर्चा का विषय बनने के लिए काफी था. 130 करोड़ भारतवासी निराश हुए लेकिन पिछले डेढ़ दशक में जो आपने देश के लिए किया उसके लिए वह सभी आपके आभारी हैं. आपके करियर को देखने का एक तरीका आंकड़े भी हैं. आप भारत के सबसे सफल कप्तानों में शामिल रहे और देश को टॉप पर पहुंचाया. क्रिकेट के इतिहास में आपका नाम महान बल्लेबाज, कप्तान के साथ-साथ इस खेल के सर्वश्रेष्ठ विकेटकीपर्स में भी शामिल रहेगा.

 

मुश्किल स्थिति में आप पर टीम निर्भर करती थी और आपका फिनिशिंग स्टाइल हमेशा फैंस को याद रहेगा खासकर जिस तरह आपने 2011 वर्ल्ड कप देश को जिताया. लेकिन महेंद्र सिंह धोनी का नाम केवल आंकड़ों के लिए और जीत के लिए ही याद नहीं किया जाएगा. आपको सिर्फ एक खिलाड़ी के तौर पर देखना आपके साथ अन्याय होगा. आप एक अलग युग थे.

आप एक छोटे से शहर निकलकर आए और देश की पहचान बन गए. आपने देश को गौरव करने के कई मौके दिए. आपकी सफलता ने देश के करोड़ों युवाओं के हिम्मत और प्रेरणा दी. उन्हें बताया कि किसी बड़े स्कूल, यूनिवर्सिटी में न पढ़ते हुए एक छोटे शहर से आने के बावजूद अपनी प्रतिभा से उच्चतम स्तर पर पहचान बना सकते हैं. आप नए भारत की पहचान बने जहां बड़े परिवार का नाम युवाओं की किस्मत नहीं बनाता बल्कि वह खुद अपना नाम और किस्मत बनाते हैं. हम कहां से आए हैं यह मायने नहीं रखता हम कहां जा रहे हैं यह जरूरी है.

 

फील्ड पर आपने काफी कुछ ऐसा यादगार किया जिससे भारत की आने वाली पीढ़ियां प्रेरित होंगी. आज की पीढ़ी रिस्क लेने से नहीं डरती. वह मुश्किल समय में एक-दूसरे की प्रतिभाओं पर भरोसा दिखाती है. साल 2007 में टी20 वर्ल्ड कप के फाइनल में आपने जो किया वह इसका बड़ा उदाहरण है.

यह पीढ़ी दबाव की स्थिति में घबराती नहीं है जो आपकी कई पारियों में दिखता है. आपका हेयरस्टाइल चाहे भी हो हर जीत और हार में आपका दिमाग शांत ही रहा जो कि युवाओं के लिए काफी जरूरी है. मैं यहां पर भारतीय सेना के साथ आपके खास रिश्ते के बारे में भी बात करना चाहूंगा. आप हमारे फौजी भाइयों के साथ हमेशा खुश दिखाई दिए और उनकी ओऱ आपका रवैया शानदार रहा.

 

मुझे उम्मीद है कि साक्षी और जीवा को आपके साथ और ज्यादा समय बिताने का मौका मिलेगा. मैं उन्हें भी अपनी ओर से शुभकामनाएं देता हूं क्योंकि उनके त्याग और समर्थन के बिना कुछ भी संभव नहीं होता. हमारे युवा आपसे सीख सकते हैं कि कैसे निजी जीवन और प्रोफेशनल जीवन को किस तरह बैलेंस किया जाता है. मुझे आपकी वह तस्वीर आज भी याद है जब पूरी टीम जीत का जश्न मना रही थी और आप अपनी बेटी के साथ खेल रहे थे. आपके नए सफर के लिए बधाई औऱ शुभकामनाएं.

Tags

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close