टॉप न्यूज़भारत

इलाहाबाद हाईकोर्ट में रोक के लिए याचिका दाखिल, क्या नहीं हो पाएगा राम मंदिर निर्माण का भूमि पूजन?

याचिका में कहा गया है कि इस कार्यक्रम के होने से कोरोना वायरस संक्रमण के फैलने का खतरा बढ़ेगा. याचिका में यह भी कहा गया है कि उत्तर प्रदेश सरकार केंद्र की गाइडलाइन में छूट नहीं दे सकती है.

  • 5 अगस्त को राम मंदिर निर्माण के लिए भूमि पूजन
  • प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को भी भेजा गया न्यौता

 

प्रयागराज: अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के लिए 5 अगस्त को प्रस्तावित भूमि पूजन पर रोक लगाने की मांग को लेकर इलाहाबाद हाई कोर्ट में अर्जी दाखिल की गई है. दिल्ली के पत्रकार साकेत गोखले ने हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस को लेटर पीआईएल के माध्यम से यह याचिका लगाई है. गोखले द्वारा दाखिल पीआईएल ते तहत भूमि पूजन कोविड-19 के अनलॉक-2 गाइडलाइन का उल्लंघन है.

 

भूमि पूजन के दौरान इकट्ठे होंगे तीन सौ लोग

इसके अलावा इस याचिका में कहा गया है कि अयोध्या में भूमि पूजन के दौरान तीन सौ लोग इकट्ठा होंगे जो कि कोविड के नियमों के खिलाफ होगा. आपको बता दें कि लेटर पीटीशन के जरिये भूमि पूजन कार्यक्रम पर रोक लगाये जाने की मांग की है. जनहित याचिका में यह भी कहा गया है कि इस कार्यक्रम से कोरोना संक्रमण फैलने का खतरा बढ़ेगा. यही नहीं पीडिशन में आगे कहा गया है कि यूपी सरकार केंद्र की गाइडलाइन में छूट नहीं दे सकती.

 

बकरीद का जिक्र

अपनी याचिका में गोखले ने उस आदेश का भी जिक्र किया जिसके तहत बकरीद पर सामूहिक नमाज की इजाजत नहीं दी गई ताकि कोरोना न फैल सके. आपको बता दें कि पत्रकार साकेत गोखले विदेशों में कई अखबार में काम कर चुके हैं, और साथ ही सोशल एक्टिविस्ट भी हैं. यदि लेटर पिटीशन मंजूर हुई तो चीफ जस्टिस द्वारा नामित बेंच इस मामले में सुनवाई करेगी. याचिका में राम मंदिर ट्रस्ट के साथ ही केंद्र सरकार को भी पक्षकार बनाया गया है.

 

भूमि पूजन में शामिल होंगे पीएम मोदी

इस दौरान भूमि पूजन में तीन चरणों में विधि विधान से पूरी पूजा संपन्न कराई जाएगी. तमाम वेदोक्त मंत्र गूंजेंगे. इन सबके बीच भूमिपूजन में 32 सेकेंड (32 Seconds) ही सबसे अहम होंगे. जी हां, 32 सेकेंड में भूमिपूजन का सार छिपा है. दरअसल, 5 अगस्त को दोपहर 12 बजकर 15 मिनट 15 सेकंड के ठीक बाद के ये 32 सेकेंड अहम होंगे. इन्हीं 32 सेकेंड के भीतर भव्य और दिव्य राम मंदिर की पहली ईंट प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी रखेंगे. बताया जा रहा है 35 से 40 किलोग्राम चांदी की यह ईंट होगी. ज्योतिष शास्त्र के लिहाज से ये जरूरी है. राहु और केतु समेत अन्य दोष मिटाने के लिए चांदी की ईंट रखी जाएगी.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close