BREAKING NEWSतकनीक

कश्मीर में बन रहा देश का पहला केबल रेल ब्रिज, अब और रोमांचक होगा कटरा का सफ़र

देश के सीमांत प्रदेश जम्मू-कश्मीर में रेलवे अपना नेटवर्क तेजी से बढ़ाने की जद्दोजहद में लगा हुआ है

कश्मीर में बन रहा देश का पहला केबल रेल ब्रिज, अब और रोमांचक होगा कटरा का सफ़र

  • कटरा और रियासी को जोड़ेगा ये पुल

  • अंजी पुल की लंबाई 473.25 मीटर है

  • पुल के सपोर्ट के लिए होंगे 96 केबल

देश के सीमांत प्रदेश जम्मू-कश्मीर में रेलवे अपना नेटवर्क तेजी से बढ़ाने की जद्दोजहद में लगा हुआ है. आपको बता दें कि इसी क्रम में इंडियन रेलवे कश्मीर में भारत का पहला केबल रेल ब्रिज भी बना रहा है. जानकारी के मुताबिक कटरा और रियासी के बीच भारतीय रेल देश का पहला केबल पर टिका रेल ब्रिज बनाने जा रही है.

रेल मंत्री पीयूष गोयल ने इस ब्रिज को लेकर एक ट्वीट भी किया है. रेल मंत्री ने अपने ट्वीट में केबल ब्रिज से जुड़ा एक वीडियो भी ट्वीट किया है जिसमें अंजी पुल को उत्कृष्ट इंजीनियरिंग का बेहतरीन नमूना बताया गया है. रेल मंत्री ने अपने ट्वीट में लिखा है कि ये ब्रिज ऊधमपुर-श्रीनगर-बारामूला रेल लिंक परियोजना का एक हिस्सा है जो जम्मू कश्मीर क्षेत्र में रेलवे नेटवर्क को मजबूत करेगा व राज्य के विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगा.

वीडियो में बताया गया है कि यह शानदार अंजी पुल कटरा और रियासी के बीच बनेगा. वीडियो में देश के पहले केबल रेल ब्रिज से जुड़ी कुछ खासियतें भी बतायी गयी हैं.

वीडियो के मुताबिक इस पुल की लंबाई 473.25 मीटर है. जबकि केबल रेल ब्रिज के लिए बनाए जा रहे खंभे की ऊंचाई नदी के तल से 331 मीटर है.

इसके अलावा वीडियो में बताया गया है कि पुल को सपोर्ट देने के लिए खंभे से 96 केबल का जाल बनाया जाएगा. यह खास डिजाइन पुल को तेज हवाओं और भयंकर तूफानों में भी मजबूती से खड़े रहने में मदद करेगा.

कोंकण रेलवे कार्पोरेशन बना रहा है ये ब्रिज

आपको बता दें कि कठिन भौगोलिक परिस्थितियों में बन रहा यह रेल ब्रिज इंजीनियरों के लिए किसी बड़ी चुनौती से कम नहीं है. अंजी पुल चिनाब दरिया पर बनाया जा रहा है. इसके निर्माण कार्य में लगे कर्मचारियों और इंजीनियर्स की सुरक्षा का खास ध्यान रखा गया है.

कोंकण रेलवे कार्पोरेशन को इस ब्रिज के निर्माण की जिम्मेदारी सौंपी गई है. ब्रिज के निर्माण के लिए जो क्रेन इस्तेमाल की जा रही है वो 25 मीट्रिक टन तक का वजन यानी भार उठाने में सक्षम है.

अंजी ब्रिज जहां बन रहा है उस जगह का भू-विज्ञान बहुत जटिल है. अत्यधिक टूटी और संयुक्त चट्टानों के बीच निर्माण कार्य किया जा रहा है. केबल पर आधारित ब्रिज के लिए एक ऊंचा पिलर बन रहा है जिसके दोनों ओर केबल बांधा जाएगा.

ब्रिज के निर्णाण कार्य में लगे कर्मचारियों के लिए आधुनिक यंत्रों की व्यवस्था की गई है. जिसमें जम्प शटरिंग का भी इस्तेमाल शामिल है.

Tags

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close