शिक्षा

लाइब्रेरियन का पद कितने खाली है – देखे पूरी न्यूज़

लाइब्रेरियन का पद कितने खाली है

राज्य के अधिकांश माध्यमिक व उच्च माध्यमिक स्कूलों में लाइब्रेरियन का पद नहीं है जबकि हर साल 2000  से ₹3000 का

बजट किताबों की खरीद के लिए स्कूलों को दिया जा रहा है वहीं जिन स्कूलों के पद स्वीकृत है वहां भी 47 फ़ीसदी पद रिक्त

चल रहे हैं ऐसे में बिना लाइब्रेरियन के ना तो किताबों को पढ़ने के लिए छात्र मिल पा रहे हैं और ना ही छात्राओं को किताबें मिल

पा रही है स्कूलों में लाइब्रेरी के नाम पर केवल औपचारिकता ही पूरी की जा रही है राज्य में माध्यमिक और उच्च माध्यमिक

स्कूलों की संख्या करीब 14788 है इनमें 5515 माध्यमिक और करीब 11273 उच्च माध्यमिक स्कूल है जबकि विभाग में

पुस्तकालय अध्यक्ष पदों की संख्या केवल 4139 है इनमें भी 1923 पद खाली है प्रदेश के केवल 27 फीसदी माध्यमिक उच्च

माध्यमिक सेटअप के स्कूलों में पुस्तकालय अध्यक्ष के पद पर स्वीकृत है शेष बचे क्षेत्र के स्कूलों में पुस्तकालय अध्यक्ष का

पद स्वीकृत नहीं है वहीं दूसरी और पुस्तकालय अध्यक्ष की विभागीय पदोन्नति भी लंबे समय से नहीं हुई है राजस्थान सेवा

नियम 1970 में संशोधन के अभाव में लाइब्रेरियन के पदों पर पदोन्नति का काम अटका हुआ है 2015 में शिक्षा निदेशालय

की ओर से सेवा नियम संशोधन के संबंध में सरकार को भेजी गई जिसका सकारात्मक नहीं मिल पाया है |

फर्स्ट ग्रेड लाइब्रेरियन के 95% पद खाली
शिक्षा विभाग में यदि लाइब्रेरियन के फर्स्ट ग्रेड पदों की बात की जाए तो 95 परसेंट पद खाली है फर्स्ट ग्रेड के 42 पद शिक्षा
विभाग में स्वीकृत है जिसमें से 40 पद रिक्त चल रहे हैं पदोन्नति का काम वाटिका होने से यह पद लंबे समय से नहीं भरे जा
रहे हैं |
 लाइब्रेरियन के पदों की स्थिति –
पद स्थिति    ग्रेड 1 ग्रेड 2 ग्रेड 3 कुल
 स्वीकृत पद  42. 1098 2999 4139
 कार्यरत       2.     365 1849 2216
रिक्त            40.   733.1150 1923
Tags

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close