BREAKING NEWSमनोरंजन

‘पवित्र रिश्ता फंड’ से पीछे हटीं एकता कपूर, सुशांत के परिवार ने उठाए सवाल तो सोशल मीडिया पर दी सफाई

मुंबई. सुशांत सिंह राजपूत मामले (Sushant Singh Rajput Case) में सुप्रीम कोर्ट ने एक बड़ा फैसला सुनाया. इस फैसले के साथ ही परिवार और फैंस की उम्मीदें अब सीबीआई से बढ़ गई हैं. लोगों को उम्मीद हैं कि सुशांत के साथ 14 जून को क्या हुआ इसका खुलासा अब हो जाएगा. हालांकि इस खबर के बीच एकता कपूर (Ekta Kapoor) के चर्चे भी सोशल मीडिया पर खूब हो रहे थे. #ShameOnEktaKapoor ट्रेंड होने लगा और लोगों ने जब सोशल मीडिया पर डेली सोप क्वीन की क्लास लगाई तो उन्हें इस मामले पर सफाई देने पड़ी, उन्होंने एक ट्वीट कर इस मामले पर अपना बयान जारी किया.

दरअसल, सोशल मीडिया एकता कपूर (Ekta Kapoor) यूजर्स का निशाना तब बनीं जब उन्होंने ‘पवित्र रिश्ता फंड’ की शुरुआत की, इसका इस्तेमाल मेंटल हेल्थ के लिए अवेयरनेस फैलाने के लिए किया जाना था. इस फंड के पोस्टर की तस्वीर में सुशांत सिंह राजपूत की एक तस्वीर का इस्तेमाल किया गया है, जिसपर लोगों ने उन्हें जमकर लताड़ लगाई. थोड़ी ही देर में ट्विटर पर #ShameOnEktaKapoor हैश टैग ट्रेंड होने लगा.

सोशल मीडिया पर लोगों के निशाना और सुशांत के परिवार द्वारा विरोध जाहिर होने के बाद एकता कपूर ने अपने ट्वीट किया और लिखा- ‘ये फंड तो मेरे द्वारा शुरू भी नहीं किया गया था, इसे Zee ने शुरू किया था और जरूरतमंद लोगों के लिए था, मैं किसी भी अन्य मेंटल अवेयरनेस फंड में हमेशा जी के साथ हूं जो वो करना चाहें, लेकिन इस मामले में मैं खुद को इस फंड से पूरी तरह अलग करना चाहती हूं. सुशांत सिंह राजपूत मामले में उम्मीद है सच सामने आए’.

आपको बता दें कि सुशांत के सबसे छोटे जीजा विशाल कीर्ति ने ट्वीट कर लिखा था कि सुशांत सिंह राजपूत की बहन श्वेता और मैं एक्टर के नाम पर कोई कॉमर्शिलाइजेशन नहीं चाहते हैं. अगर लोग सुशांत का नाम लेकर कुछ कर रहे हैं तो ये प्रॉफिट कमाने के मकसद से नहीं होना चाहिए. परिवार ने सुशांत के नाम का इस्तेमाल करते हुए किसी भी लाभकारी गतिविधि का समर्थन नहीं किया है.

उन्होंने आगे लिखा था कि सुशांत के नाम पर किसी भी तरह की नॉन प्रॉफिट एक्टिविटी के लिए प्लीज सुशांत के पिता से लिखित में क्लीयरेंस ले लें ताकि आप कार्रवाई से बच सकें. मेंटल हेल्थ अवेयरनेस के लिए सुशांत को पोस्टर बॉय के रूप में इस्तेमाल ना करें. अगर परिवार को लगता है कि उन्हें किसी संगठन या व्यक्ति द्वारा बदनाम किया गया है, तो वे कानूनी सहारा लेंगे.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close