अनतर्राष्ट्र्य खबरें

बिगड़ गया है आपका क्रेडिट स्कोर ? तो इस तरह ले लोन

क्रेडिट स्कोर कम होने पर बैंक से लोन केसे ले ?

1. अपनी खोज का दायरा बढ़ाए

 

 बैंक और एनबीएफसी अलग-अलग क्रेडिट स्कोर पर लोन प्रदान करते हैं। यानी कुछ लोन ज्यादा क्रेडिट Score वालों को ही मिलते हैं, तो कुछ लोग ऐसे हैं जो क्रेडिट स्कोर पर भी मिल सकते हैं। इसी तरह कुछ लोन संस्थान ज्यादा क्रेडिट स्कोर पर लोन देते हैं जबकि कुछ कम क्रेडिट Score पर लोन दे देते हैं। हालांकि कम क्रेडिट इसको वालों को कर्ज देने वाले संस्थान इसके बदले अधिक ब्याज वसूलते हैं। क्रेडिट स्कोर वाले आवेदकों को खोजबीन करनी चाहिए कि कौन-कौन संस्थाएं कम क्रेडिट स्कोर पर लोन दे रही है।

2. सह-आवेदक या गारंटर जोड़ें

लोन आवेदन में ज्यादा क्रेडिट Score और बेहतर क्रेडिट प्रोफाइल वाले सह-आवेदक या गारंटर को जोड़ने से बैंकों में एनबीएफसी का जोखिम कम हो जाता है क्योंकि लोन संस्थान प्राथमिक लोन उधारकर्ता के लोन चुकाने में विफल रहने की स्थिति में से

सह आवेदक या गारंटर को उत्तरदाई ठहराया जा सकता है क्योंकि लोन आवेदन को मंजूरी देते समय सह-आवेदक या गारंटर की पुनर्भुगतान क्षमता भी देखी जाती है इससे ज्यादा लोन मिल सकता है या ब्याज दर कम हो सकती है।

3. सुरक्षित लोन का विकल्प अपनाएं
जिन लोगों को कम क्रेडिट स्कोर के कारण क्रेडिट कार्ड या पर्सनल लोन नहीं मिल पा रहा है या बहुत अधिक ब्याज पर लोन मिल रहा है उन्हें सुरक्षित लोन (गोल्ड लोन, संपत्ति के बदले लोन) के विकल्प पर विचार करना चाहिए सुरक्षित लोन के लिए आवेदक को कुछ संपत्ति की दूरी तक नहीं होती है इसलिए बैंक का जोखिम कम हो जाता है ऐसे में लोन संस्थान सुरक्षित लोन आवेदनों का आंकलन करते समय क्रेडिट स्कोर को ज्यादा महत्व नहीं देते हैं सुरक्षित लोन की ब्याज दर असुरक्षित लोन की तुलना में कम भी होती है।
4. एलटीवी रेश्यो पर करे समझौता
लोन संस्था में किसी संपत्ति या वस्तु की कीमत का जितना प्रतिशत लोन के रूप में देते हैं उसे एलटीवी रेशों कहते हैं । जो बचता है वो डाउन पेमेंट अमाउंट या मार्जिन है इसका इंतजाम उधारकर्ता को करना होता है जिनकी क्रेडिट प्रोफाइल अच्छी नहीं है उन्हें कम एलटीवी रेश्यो ऑफर किया जाता है जिन लोगों का लोन आवेदन कम क्रेडिट इसको के कारण स्वीकार नहीं हुआ वे कम एलटीवी रेशों पर समझौता कर सकते हैं इससे उन्हें ज्यादा डाउन पेमेंट का इंतजाम करना होगा लेकिन इससे लोन पर ब्याज दर कम भी हो जाए |
Tags

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close