अनतर्राष्ट्र्य खबरें

लॉटरी में हर दिन 2 करोड लोग हो रहे बर्बाद फिर भी सरकारें मौन

2 million people are wasted every day in lottery, yet governments remain silent

देश में लॉटरी के नासूर में फंसकर हर दिन 2 करोड लोग बर्बाद हो रहे हैं इसमें ज्यादातर श्रमिक वर्ग के लोग शामिल है वह

ज्यादा शिकार हो रहे हैं जो लोक  डाउन में बेरोजगार हो चुके हैं इनमें से ज्यादातर मध्यम वर्ग और निम्न वर्ग से हैं कुछ के

भाग्य खुल जाते हैं लेकिन अधिकांश धीरे-धीरे लॉटरी के आदी हो रहे हैं उनके परिवार कर्ज में डूबे हुए हैं फिर भी केंद्र व राज्य

सरकार की नजर में इसे नजरअंदाज किया जा रहा है इसका मुख्य कारण बेशक भारी राजस्व है नीति आयोग के अनुसार

भारत में हर साल कम से कम 50 हजार करोड़ रुपए मूल्य के लॉटरी टिकट बेचे जाते हैं इसलिए कोई भी सरकार इस व्यवसाय

को रोकना नहीं चाहती है |

जुए का एक रूप है लॉटरी लॉटरी विनिमय अधिनियम 1997 के अनुसार यह जो एकाएक रुपए आश्चर्यजनक रूप से 27
राज्यों में से 13 में लॉटरी खेल कानूनी है केरल महाराष्ट्र पश्चिम बंगाल पंजाब जैसे राज्य इस संबंध में अग्रणी है |

प्रतिबंध की अपील पर भी नहीं मिला विजय गोयल को समर्थन

भाजपा के सांसद विजय गोयल ने राज्यसभा में शून्यकाल में 1 अंक लॉटरी की पर प्रतिबंध लगाने की अपील की थी लेकिन
अन्य दलों का उन्हें समर्थन नहीं मिला |

बंगाल में हर माह 240 करोड रुपए का कारोबार

पश्चिम बंगाल में स्टॉकिस्ट लॉटरी एसोसिएशन के मुताबिक राज्य में लॉटरी उद्योग प्रतिमाह 240 करोड रुपए का व्यापार करता है हर महादेव 100 करोड़ का अवैध लॉटरी व्यापार होता है

कुछ राज्यों के लिए राजस्व का प्रमुख जरिया

कुछ राज्य इसे राजस्व का एक प्रमुख जरिया मानते हैं ऐसे में उन राज्यों में लॉटरी बंद कराने का एकमात्र तरीका केंद्रीय कानून है इसके लिए केंद्र को कठोर कानून बनाना होगा हालांकि ऐसे देश में जिसे राजस्व घाटे को पूरा करने के लिए शराब की बिक्री पर निर्भर रहना पड़ता है लॉटरी व्यवसाय के लिए वैध होना स्वाभाविक है
Tags

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close